Wed. Aug 10th, 2022

बांग्लादेश के विशेषज्ञों की राय- रुपये में कारोबार हो तो बंद होगा ब्लैक मनी का खेल


ढाका, 5 अगस्त (हि.स.)। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने एक परिपत्र के माध्यम से इस साल जुलाई में भारतीय रुपये में अंतरराष्ट्रीय व्यापार की अनुमति दी है। अब बांग्लादेश, श्रीलंका, म्यांमार और आसियान देशों को भारतीय सामानों के आयात के लिए रुपये में भुगतान किया जा सकता है। ऐसे में विशेषज्ञों का मानना है कि अगर बांग्लादेश में क्रेडिट कार्ड और वाणिज्यिक (आयात-निर्यात) लेनदेन के लिए रुपये का उपयोग किया जाता है, तो हुंडी बंद हो सकती है। इससे भारत से कानूनी रूप से माल आयात करने वाले व्यवसायियों और बांग्लादेशी नागरिकों की समस्या कम हो सकती है।

इस संबंध में पूर्व वाणिज्य मंत्री, जातीय पार्टी के अध्यक्ष गुलाम मोहम्मद (जीएम) कादर, गृह मामलों की संसदीय समिति के अध्यक्ष, राज्य के पूर्व मंत्री शमसुल हक तुकू, सेंट्रल रिजर्व बैंक ऑफ बांग्लादेश के पूर्व गवर्नर डॉ. अतीउर रहमान, बांग्लादेश इस्लामिक ओइक्या जोट के अध्यक्ष मिसबाहुर रहमान चौधरी और बांग्लादेश सुप्रीम पार्टी के अध्यक्ष और वर्ल्ड सूफी फोरम के बांग्लादेश चैप्टर के प्रमुख शहजादा सैयद सैफुद्दीन अहमद अल-हसानी अल-मजभंडारी, बेनापोल नगरपालिका के पूर्व मेयर और प्रतिरिन कथा अखबार के संपादक अशरफुल आलम लिटन ने भारत की बहुभाषीय समाचार एजेंसी हिन्दुस्थान समाचार से विशेष बातचीत की है।

मिसबाहुर रहमान ने कहा कि सोवियत संघ में रुपया-रूबल व्यापार प्रणाली थी लेकिन इसे 1990 के दशक में रद्द कर दिया गया था। हाल ही में भारत ने भी रूस को पुरानी व्यवस्था में वापस जाने की पेशकश की है। यूक्रेनी युद्ध की शुरुआत के बाद से यह मांग तेज हो गई है। उन्होंने कहा कि श्रीलंका ने संकट से बचने के लिए भारत से तीन अरब डॉलर का कर्ज लिया है। चीन के बड़े प्रोजेक्ट्स के जाल में फंसने से अब श्रीलंका में उथल-पुथल मची हुई है। हमें इससे सबक सीखना होगा।

शहजादा सैयद सैफुद्दीन अहमद ने कहा कि म्यांमार हाल ही में सीमा व्यापार लेनदेन में थाई मुद्रा को स्वीकार करने पर सहमत हुआ है। अमेरिकी डॉलर पर अपनी निर्भरता को सीमित करने के लिए भारतीय रुपये के लिए इसी तरह की व्यवस्था की आवश्यकता है। यह एक बहुत अच्छी पहल है लेकिन इस बात का ध्यान रखा जाना चाहिए कि रुपये के मुकाबले टाका ( बांग्लादेश की मुद्रा) का अवमूल्यन न हो। अंतरराष्ट्रीय स्विफ्ट कनेक्टिविटी या वीज़ा, मास्टरकार्ड सहित सभी अंतरराष्ट्रीय भुगतान गेटवे कनेक्टिविटी भारतीय मुद्रा के लिए सीमित है। इसलिए रुपये के संदर्भ में भुगतान गेटवे-लिंक के प्रत्यक्ष ”मुद्रा स्वैप” को बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि यूक्रेन युद्ध के कारण रुपया और टाका दोनों को नुकसान हो रहा है। वर्तमान में, अंतरराष्ट्रीय बाजार में डॉलर का मूल्य बढ़ रहा है, लेकिन विभिन्न देशों की स्थानीय मुद्रा की कीमत घट रही है। भारतीय रिजर्व बैंक की इस पहल के परिणामस्वरूप, मौजूदा व्यवस्थाओं के साथ-साथ चालान, भुगतान के साथ-साथ आयात और निर्यात निपटान भारतीय मुद्रा में किया जा सकता है।

बांग्लादेश बैंक के पूर्व गवर्नर मोतिउर रहमान ने कहा कि वर्तमान में दोनों देशों के केंद्रीय बैंक एकेयू (एशियाई समाशोधन संघ) के माध्यम से वाणिज्यिक लेनदेन करते हैं। हालांकि, डॉलर पर निर्भरता कम करने के लिए दोनों देशों के केंद्रीय रिजर्व बैंकों के बीच वाणिज्यिक लेनदेन में रुपये की शुरूआत के संबंध में चर्चा शुरू करना आवश्यक है। क्योंकि भारत के साथ बंगलादेश का व्यापार बहुत अधिक है।

अशरफुल आलम लिटन ने कहा कि वाणिज्यिक लेनदेन पर चर्चा करने की जरूरत है। शिक्षा और चिकित्सा के लिए भारत की यात्रा करने वाले बांग्लादेशी नागरिकों को रुपये की शुरूआत से लाभ होगा। अगर बैंकिंग चैनल के माध्यम से पैसा भारत जाता है तो भारत जाने वाले बांग्लादेशी प्रवासियों का लाभ होगा। बहुत से लोग जो विशेष रूप से चिकित्सा के लिए भारत जाते हैं। इसलिए मानवीय पहलू को ध्यान में रखा जाना चाहिए। यदि क्रेडिट कार्ड पेश किए जाते हैं तो पाकिस्तान की मदद से बांग्लादेश का उपयोग करके नकली रुपये की भारत में तस्करी करने वालों को खतरा होगा। हालांकि, उन्होंने कहा कि यह ज्ञात नहीं है कि बेनापोल में कानूनी और अवैध रूप से संचालित मुद्रा विनिमय संस्थान हुंडी से जुड़े हैं या नहीं।

शमसुल हक तुकू ने कहा कि सरकार ने मनी लॉन्ड्रिंग या हुंडी को लेकर जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई है। गृह मंत्रालय ने विशेष खुफिया निगरानी बढ़ा दी है। सभी देशों का यही हाल है। हालांकि, वित्त मंत्रालय चर्चा के माध्यम से तय करेगा कि भारत की यात्रा करने वाले नागरिक और आयात और निर्यात में शामिल संबंधित व्यवसायी रुपये के विनिमय या रुपये के क्रेडिट कार्ड या वाणिज्यिक लेनदेन के संबंध में देश के हितों की रक्षा करते हुए आसानी से व्यापार कैसे कर सकते हैं।

जीएम कादर ने कहा कि टाका में सीधे लेनदेन से दोनों पक्षों को फायदा होगा लेकिन यह केवल बांग्लादेश बैंक या रिजर्व बैंक के बारे में नहीं है। यह दोनों देशों की सरकारों के राजनीतिक निर्णय का मामला है। बांग्लादेश के साथ इस तरह की ”रुपये की अदला-बदली” की शुरुआत करना अच्छा होगा।

उल्लेखनीय है कि हर साल 18 से 20 लाख बांग्लादेशी नागरिक भारत आते हैं। बड़ी संख्या में बांग्लादेशी नागरिक दूसरे देशों में जाने के बजाय भारत आ रहे हैं क्योंकि चिकित्सा और शैक्षिक सेवाएं कम कीमत पर उपलब्ध हैं लेकिन बांग्लादेशी नागरिकों को हुंडी (हवाला) के माध्यम से भारत में पैसा लाना पड़ता है, क्योंकि कानूनी तरीके से पैसे लाने की कोई व्यवस्था नहीं है। अकेले बेनापोल में 85 कानूनी और अवैध मुद्रा विनिमय संस्थानों के माध्यम से हर दिन कम से कम आधा अरब रुपये का आदान-प्रदान किया जाता है।