Fri. Jul 1st, 2022

बर्थडे स्पेशल 24 मई: राजेश रोशन ने माँ से ली थी संगीत की प्राथमिक शिक्षा


बॉलीवुड के मशहूर एवं दिग्गज संगीतकार राजेश रोशन का जन्म 24 मई 1955 को हुआ। इनके पिता रोशनलाल नागरथ हिंदी सिनेमा के जाने माने संगीतकार थे। राजेश रोशन के पिता पंजाबी और मां बंगाली परिवार से थी। पिता की मौत के बाद इनके परिवार ने अपने नाम के आगे नागरथ की जगह रोशन लगाना शुरू कर दिया और पिता के ही नक्शेकदम पर चलते हुए संगीत जगत में अपनी पहचान बनाई। राजेश रोशन अभिनेता-निर्देशक राकेश रोशन के भाई और ऋतिक रोशन के चाचा हैं। राजेश रोशन जब छोटे थे तभी उनके पिता का साया उनके सर से उठ गया।जिसके बाद राजेश ने संगीत की प्राथमिक शिक्षा अपनी मां इरा रोशन से प्राप्त की। फैज अहमद खान के साथ संगीत रिहर्सल करते हुए इनकी मां इरा रोशन इन्हें भी संगीत की बारीकियां सिखाया करती थीं। इसके बाद में इन्होंने हिंदी संगीत की मशहूर जोड़ी लक्ष्मीकांत प्यारेलाल से भी संगीत प्रशिक्षण लिया। राजेश रोशन को बतौर संगीतकार पहला मौका फिल्म कुंवारा बाप में अभिनेता और निर्देशक महमूद ने ‘सज रही गली’ गाने के लिए दिया था। इस गाने को राजेश ने 15 किन्नरों के साथ रिकॉर्ड किया। फिल्म का यह गाना सुपरहिट हुआ और राजेश रोशन रातो-रात बॉलीवुड इंडस्ट्री के मशहूर और होनहार संगीतकारों की लिस्ट में शामिल हो गए। राजेश रोशन पहले ऐसे संगीतकार हैं जिन्होंने डेब्यू के साथ ही चार सुपरहिट फिल्में दी। कुंआरा बाप के बाद रिलीज हुईं ये फिल्में हैं, देश परदेस, मनपसंद और लूटमार। साल 1975 में के एस सेतुमाधवन के निर्देशन में बनी फिल्म ‘जूली’ में संगीत देकर राजेश रोशन हर किसी के चहेते बन गए । इस फिल्म के संगीत के लिए राजेश रोशन को फिल्मफेयर बेस्ट म्यूजिक डायरेक्टर के खिताब से नवाजा गया।ये पुरस्कार राजेश रोशन ने एक बार फिर साल 2000 में फिल्म कहो ना प्यार है के लिए जीता। राजेश रोशन ने बॉलीवुड के तामाम बड़े गायको के साथ काम किया है और बॉलीवुड में अपनी खास जगह बनाई है। हालांकि राजेश रोशन फिलहाल बॉलीवुड दुनिया से दूर हैं, लेकिन वह सोशल मीडिया पर सक्रिय रहते हैं।