Thu. Sep 29th, 2022

पुतिन की पार्टी से दूसरी बार रूस में विधायक बने बिहार के डॉ. अभय सिंह


मॉस्को, 13 सितंबर (हि.स.)। रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमिर पुतिन की पार्टी यूनाइटेड रशा के टिकट पर चुनाव लड़े भारत के बिहार राज्य के मूल निवासी डॉ. अभय सिंह दूसरी बार विधायक बन गए हैं। अभय ने 70 प्रतिशत वोट पाकर रिकार्ड भी बनाया है।

भारत के राज्य बिहार की राजधानी पटना में जन्मे अभय सिंह 1990 के दशक में मेडिकल की पढ़ाई करने के लिए रूस गए थे। वहां कुर्स्क राज्य चिकित्सा विश्वविद्यालय से स्नातक करने के बाद, अभय सिंह वापस भारत चले गए किन्तु रूस का मोह उन्हें वापस कुर्स्क खींच ले गया। 1943 में हिटलर की सेना की हार के लिए जाने जाने वाले कुर्स्क में वे रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमिर पुतिन की पार्टी यूनाइटेड रशा से जुड़ गए। 2017 में वे पुतिन की पार्टी से पहली बार विधायक का चुनाव लड़े और जीते।

इस बार उन्होंने दोबारा चुनाव मैदान में उतरने का फैसला लिया। भारतीय मूल का होने के कारण उनकी जीत पर संशय किया जा रहा था, किन्तु 70 प्रतिशत मतदाताओं ने उनका साथ देकर यह संशय समाप्त कर दिया। अभय सिंह ने कहा कि वे राष्ट्रपति पुतिन से बहुत प्रभावित रहे और इसीलिए राजनीति में प्रवेश करने का फैसला लिया।

उन्होंने बताया कि रूस में शुरुआती दौर में व्यापार करने में मुश्किल होती थी, क्योंकि वे गोरे नहीं थे। इसके बावजूद उन्होंने तय कर रखा था कि कड़ी मेहनत के साथ अड़े रहेंगे। धीरे-धीरे अभय के पैर रूस में जमते गए और व्यापार में भी बढ़ोत्तरी हुई। मेडिकल क्षेत्र में व्यावसायिक सफलता के बाद उन्होंने रियल एस्टेट में भी व्यवसाय बढ़ाया और आज उनके पास रूस के कुछ शॉपिंग मॉल भी हैं।

अभय को इस बात पर गर्व है कि भारतीय होने के बावजूद वे रूस में रम गए और आज वहां पर चुनाव भी जीत चुके हैं। उन्होंने बताया कि आज भी कोशिश रहती है कि जब समय मिले तो बिहार जरूर जाएं क्योंकि सभी मित्र और रिश्तेदार पटना में ही हैं।