Mon. May 23rd, 2022

नो बॉल को लेकर अंपायर से उलझना पड़ा महंगा, पंत, शार्दुल और प्रवीण आमरे पर जुर्माना


मुंबई, 23 अप्रैल (हि.स.)। दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान, ऋषभ पंत पर मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मैच के दौरान इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की आचार संहिता का उल्लंघन करने के लिए मैच फीस का 100 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया है।

पंत ने आईपीएल आचार संहिता के अनुच्छेद 2.7 के तहत लेवल 2 का अपराध और सजा को स्वीकार कर लिया है।

पंत के अलावा दिल्ली कैपिटल्स के शार्दुल ठाकुर और सहायक कोच प्रवीण आमरे पर भी जुर्माना लगाया गया है। शार्दुल पर आचार संहिता का उल्लंघन करने के लिए मैच फीस का 50 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया है। ठाकुर ने आईपीएल आचार संहिता के अनुच्छेद 2.8 के तहत लेवल 2 के अपराध और सजा को स्वीकार कर लिया है।

आमरे पर आचार संहिता का उल्लंघन करने के लिए मैच फीस का 100 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया है। इस अपराध के लिए उन पर एक मैच का प्रतिबंध भी लगाया जाएगा। आमरे ने आईपीएल आचार संहिता के अनुच्छेद 2.2 के तहत लेवल 2 के अपराध और सजा को स्वीकार कर लिया है।

बता दें कि दिल्ली कैपिटल्स को आखिरी छह गेंदों में 36 रनों की जरूरत थी, रोवमैन पॉवेल ने बाएं हाथ के तेज गेंदबाज ओबेद मैककॉय को ओवर की पहली तीन गेंदों में छक्का लगाया। तीसरी गेंद में, उन्होंने जो छक्का लगाया, वह फुलटॉस गेंद कमर के ऊपर थी, दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान ऋषभ पंत और टीम प्रबंधन के अनुसार फुल टॉस नो-बॉल थी। लेकिन ऑन-फील्ड अंपायर ने नो-बॉल नहीं दी और यहां तक कि थर्ड अंपायर से सलाह लेने से भी इनकार कर दिया, इसलिए पंत ने मैच को रद्द करने की धमकी दी और पॉवेल और कुलदीप यादव दोनों को मैदान से बाहर आने के लिए कहा। इसके अलावा सहायक कोच प्रवीण आमरे भी मैदान में घुस गए और अंपायर से बहस करने लगे। जिसके बाद ये सख्त एक्शन लिया गया।