Thu. Feb 22nd, 2024

दिल्ली शस्त्र लाइसेंस के लिए स्मार्ट कार्ड बनाने वाला देश का पहला राज्य बना


नई दिल्ली, 16 फरवरी (हि.स)। दिल्ली शस्त्र लाइसेंस के लिए स्मार्ट कार्ड बनाने वाला देश का पहला राज्य बन गया है। बुधवार को दिल्ली पुलिस के 75वें स्थापना दिवस के मौके पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बकायदा शस्त्र का ‘स्मार्ट कार्ड’ और ‘शस्त्र मोबाइल एप’ लांच किया। स्मार्ट कार्ड बनने से शस्त्र लाइसेंस धारकों को न सिर्फ इसे लेकर चलने में आसानी होगी बल्कि इसकी जांच करने में भी पुलिस को काफी सहूलियत होगी।
शस्त्र मोबाइल एप को ‘ई-बीट बुक’ से जोड़ा गया है। किसी भी समय पुलिस अधिकारी लाइसेंस धारकों की जांच कर सकेंगे। दिल्ली पुलिस ने शस्त्र मोबाइल एप और स्मार्ट कार्ड को इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के नेशनल ई-गवर्नेंस डिवीजन की मदद से तैयार किया है। पुराने लाइसेंस धारक भी स्मार्ट कार्ड के लिए दिल्ली पुलिस की लाइसेंसिंग यूनिट की वेबसाइट पर जाकर इसके लिए आवेदन कर सकेंगे।
लाइसेंसिंग यूनिट के संयुक्त आयुक्त डॉ. ओपी मिश्रा ने बताया कि दिल्ली पुलिस देश की ऐसी पहली पुलिस बन गई है, जिसने लाइसेंस धारकों के लिए स्मार्ट कार्ड लोंच किया है। जिन लोगों के नए लाइसेंस बनाए जाएंगे उनको स्मार्ट कार्ड उपलब्ध कराया जाएगा। जिन लोगों के पुराने लाइसेंस हैं, यदि वह अपना नया स्मार्ट बनवाना चाहते हैं तो उनको ‘www.delhipolicelicensing.gov.in’ से एक फॉर्म डाउनलोड कर उसे भरकर जानकारी देना होगी।
इसके बाद लाइसेंस धारक को किताब की जगह स्मार्ट कार्ड उपलब्ध करा दिया जाएगा। मिश्रा ने बताया कि शस्त्र एप को सभी बीट ऑफिसर के ई-बीट-बुक में भी उपलब्ध कराया गया है। बीट अधिकारी या अन्य पुलिस ऑफिसर लाइसेंस धारक के 18 अंकों के यूआईएन की मदद से उसके लाइसेंस की जांच कर सकेंगे। इससे पिकेट पर, एयरपोर्ट, बॉर्डर, क्लब, होटल व दूसरे सार्वजनिक स्थानों पर लाइसेंस धारकों की जांच की जा सकेगी। बता दें कि डिजिटल इंडिया की पहल पर दिल्ली पुलिस ने इसकी शुरुआत की गई है।