Wed. Aug 10th, 2022

तेलंगााना : एआईसीसी आधिकारिक प्रवक्ता दासोजू श्रवण ने भी किया कांग्रेस छोड़ने का ऐलान


-प्रदेश कांग्रेस समिति को एक और झटका

हैदराबाद, 06 अगस्त (हि.स.)। तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस समिति (टीपीसीसी) को कल देर शाम को एक और झटका लगा। मोनुगोडू विधायक कोमटरेड्डी राजगोपाल रेड्डी की पार्टी और विधायक पद से इस्तीफा देने के दो दिन बाद आज एआईसीसी आधिकारिक प्रवक्ता और तेलंगाना पीसीसी के वरिष्ठ नेता दासोजू श्रवण ने कांग्रेस छोड़ने का ऐलान किया।

श्रवण ने अपने आवास पर किए संवाददाता सम्मेलन में आरोप लगाया कि पीसीसी अध्यक्ष रेवंत रेड्डी के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी में अराजक परिस्थितियां हैं। पार्टी में गुलाम की तरह वह काम नहीं कर सकते हैं। इसी कारण कांग्रेस पार्टी छोड़ने का निर्णय लिया है।

उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी ने तेलंगाना देने के लिए एक जिम्मेदारी देने पर आभार महसूस करते हुए वर्ष 2014 में वह कांग्रेस में शामिल हुए थे। पार्टी के लिए दिन रात मेहनत कर आज आधिकारिक प्रवक्ता स्तर तक पहुंचे लेकिन रेवंत रेड्डी के पीसीसी अध्यक्ष बनने के बाद जाति और धन के आधार पर ही पार्टी में नेताओं को प्राथमिकता दी जा रही है, जो ठीक नहीं है।

श्रवण ने कहा कि सोनिया गांधी और राहुल पार्टी गांधी ने जनता की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए तेलंगाना दिया, लेकिन रेवंत रेड्डी आज पार्टी के सिद्धांतों के खिलाफ काम कर रहे हैं। रेड्डी पर तानाशाही से काम करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि टीपीसीसी में राजनीतिक मामले माफिया की तरह हो रहे हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि वर्तमान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रेवंत रेड्डी की गलतियों को सुधारने के जिम्मेदार पीसीसी मामलों के प्रभारी मनिक्कम टैगोर और रणनीतिकार सुनील कोई कदम नहीं उठा रहे हैं। इन परिस्थितियों में रेड्डी पर सवाल उठाने वालों के खिलाफ आलाकमान को गलत रिपोर्ट भेजी जा रही है।

वर्तमान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रेवंत रेड्डी तेलंगाना में कांग्रेस पार्टी को जड़ से खत्म करने का प्रयास कर रहे रहे हैं। श्रवण ने कहा कि पिछले एक वर्ष से वह काफी समस्याओं का सामना कर रहे हैं। अब वह अपना स्वाभिमान बचाने के लिए ही पार्टी छोड़ रहे हैं।

इस बीच दासोजू श्रवण के पार्टी छोड़ने की जानकारी मिलने पर पीसीसी के वरिष्ठ नेता कोदंडा रेड्डी, महेश कुमार गौड़ ने उनके आवास पर उनके साथ चर्चा की। उन्होंने श्रवण से पार्टी छोड़ने से संबंधित अपने निर्णय पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया। पीसीसी नेताओं ने उन्हें समझाने का काफी प्रयास किया।

कांग्रेस प्रदेश कार्यालय गांधी भवन के सूत्रों ने हिन्दुस्थान समाचार को बताया कि पार्टी में अन्य दलों के नेताओं के शामिल होने को लेकर श्रवण कुछ दिनों से असंतुष्ट थे।

हाल में दिवंगत पीजेआर की पुत्री और खैरताबाद रेड्डी के कांग्रेस में शामिल होने के बाद से श्रवण पार्टी में जारी गतिविधियों से नाराज थे। पिछले चुनावों में दासोजू ने खैरताबाद विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा था और उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

विश्लेषकों का कहना है पार्टी में विजया रेड्डी के आने से अगले चुनावों में दासोजू को खैरताबाद से टिकट मिलना मुश्किल बताया जा रहा है। समाचार लिखे जाने तक दासोजू श्रवण प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष संजय के साथ नई दिल्ली के लिए निकले हैं। नई दिल्ली में उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष जय प्रकाश नड्डा से मिलने की संभावना है।