Thu. Aug 18th, 2022

तीसरी सोमवारी को अरेराज मे उमड़ा श्रद्धालुओ का सैलाब,श्रद्धालुओ पर की गई पुष्पवर्षा


मोतिहारी,01अगस्त (हि.स.)।सावन मास की तृतीय सोमवारी के अवसर पर जिले के विभिन्न शिवालयों में भगवान शिव को जलाभिषेक करने के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ देखने को मिली।

बिहार के काशी कहे जाने वाले बाबा सोमेश्वर नाथ अरेराज के दरबार में भी देर रात से ही श्रद्धालुओं की भारी भीड़ जुटी।इस सोमवार जलाभिषेक को लेकर पधारने वाले श्रद्धालुओं के ऊपर पुष्प वर्षा भी की गई।

सोमेश्वरधाम के पीठाधीश्वर महंत रविशंकर गिरी ने बताया कि तृतीय सोमवार सावन शुक्ल पक्ष की प्रथम सोमवारी होने के कारण इस दिन जलाभिषेक का आध्यात्मिक महत्व ज्यादा है।ऐसे महत्व वाले दिन जलाभिषेक करने वाले श्रद्धालुओं के ऊपर पुष्प वर्षा करना हम सबके लिए सौभाग्य की बात है।

उन्होंने कहा कि साल का हर सोमवार व विशेषकर सावन का महीना शिव को अति प्रिय है।व्रत परिचय ग्रन्थ में ऐसा वर्णन मिलता है कि साल के हर माह के सोमवार को जलाभिषेक व व्रत करने का अलग अलग फल मिलता है जिस क्रम में सावन के सोमवार को व्रत रखकर बाबा सोमेश्वर नाथ का जलाभिषेक करने वाले भक्तों को अश्वमेध यज्ञ करने का फल मिलता है।वहीं विभिन्न नदियों के पवित्र जल से बाबा का अभिषेक करने के लिए उमड़ने वाली लाखों की भीड़ को मन्दिर में सुरक्षित व शांत वातावरण में वैदिक मंत्रोच्चार के बीच जलाभिषेक कराने को लेकर मन्दिर प्रबंधन व स्थानीय प्रशासन ने काफी चाक चौबंद व्यवस्था किया है।

भीड़ को लेकर एसडीओ संजीव कुमार के निर्देश पर मन्दिर प्रबंधन द्वारा महिला पुरुष श्रद्धालुओं को कतार बद्ध होकर जलाभिषेक करने के लिए तिलावे नदी पुल से पूरब चौक तक स्थायी ब्राइकेटिंग को मन्दिर प्रबंधन द्वारा विस्तारित किया गया है।साथ ही मन्दिर परिसर में बाइस सीसीटीवी कैमरे के साथ लोगो को नियंत्रित करने के लिए सुरक्षाकर्मियो को वाकी टॉकी संयंत्र से लैश किया गया है।मन्दिर सहित सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में दंडाधिकारी,महिला पुरुष सुरक्षाबल के जवानों ,एनसीसी के जवानों,विकास मित्र,बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की जगह जगह तैनाती की गई है।कई जगह विशेषकर भैरव स्थान मार्ग व मंदिर के दक्षिणी और उत्तरी भाग मे कई जगह जलजमाव और कचरे भी देखने को मिला।