Sun. May 22nd, 2022

टेरर फंडिंग और आतंकी भर्ती मामले में एनआईए ने कश्मीर घाटी में की छापेमारी


श्रीनगर, 14 मई (हि.स.)। टेरर फंडिंग और आतंकी भर्ती करने के मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने शनिवार को कश्मीर घाटी के विभिन्न हिस्सों में छापेमारी की। एनआईए ने छापेमारी के दौरान मोबाइल फोन, पेन ड्राइव, लैपटाप और कुछ दस्तावेज कब्जे में लिए हैं। बीते एक सप्ताह के दौरान कश्मीर घाटी में एनआईए की यह तीसरी छापेमारी है।

आज सुबह एनआईए ने जम्मू कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों की मदद से कश्मीर घाटी के विभिन्न हिस्सों में आतंकी और अलगाववादी नेटवर्क से जुड़े लोगों के ठिकानों पर छापेमारी की। अधिकारियों ने बताया कि न्यू फतेहपोरा कालोनी बारामुला में मुश्ताक अहमद बट और मुरादपोरा शोपियां में अली मोहम्मद बट के घर में तलाशी ली गई है। मुश्ताक अहमद शिक्षा विभाग में कार्यरत है और वह जमाते इस्लामी के सक्रिय कार्यकर्ताओं में शामिल है। इसके अलावा वह आतंकी संगठनों के लिए वित्तीय मदद जुटाने और आतंकी, जिहादी गतिविधियों के प्रचार प्रसार में भी शामिल रहा है।

अली मोहम्मद बट को भी जमाते इस्लामी का करीबी माना जाता है। वह कश्मीर में आतंकी गतिविधियों के लिए न सिर्फ नए लड़कों की भर्ती के अलावा चंदा जमा करता था अपितु वह कश्मीर में राष्ट्रविरोधी प्रदर्शनों के आयोजन भी सक्रिय रहता था। एनआईए के अधिकारियों ने मुश्ताक अहमद बट और अली मोहम्मद बट के घर तलाशी के दौरान उनके परिजनों से भी पूछताछ की है।

अधिकारियों ने बताया कि जिन लोगों के ठिकानों पर आज छापेमारी हुई है। उनके खिलाफ एनआईए ने दिल्ली में पहले से ही एक मामला दर्ज कर रखा है।