Fri. May 27th, 2022

ज्ञानवापी के सर्वे पर राजनीतिक बयानबाजी से बाज आएं ओवैसी : राकेश त्रिपाठी


– सभी पक्षों को कोर्ट के निर्णय का सम्मान करना चाहिए

लखनऊ,14 मई (हि.स.)। ज्ञानवापी श्रृंगार गौरी मामले में शनिवार को (सर्वे) का काम पूरा हो गया है। सर्वे टीम तहखाने में जाकर वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी की है । इस बीच ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के राष्ट्रीय अध्यक्ष असादुदीन ओवैसी द्वारा यह कहा जाना कि सर्वे पर कोर्ट का आदेश गलत है।

ओवैसी के बयान की आलोचना करते हुए भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने शनिवार को कहा कि ज्ञानवापी के सर्वे पर बैरिस्टर ओवैसी जो अपने आप को बैरिस्टर कहते हैं उनको राजनीतिक बयानबाजी नहीं करना चाहिए और कोर्ट के निर्णय का सम्मान करना चाहिए। अगर वह कोर्ट के निर्णय से असहमत हैं तो ऊपरी अदालत में जाना चाहिए। वह लोग सुप्रीम कोर्ट गये भी थे। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई से मना कर दिया है।

राकेश त्रिपाठी ने कहा कि काशी के सर्वे को लेकर श्रद्धालु श्रंगार गौरी की पूजा करने के लिए कोर्ट में याचिका लेकर गये थे। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि वहां पर सर्वे किया जाना चाहिए और वीडियोग्राफी की जानी चाहिए। यह विशुद्धरूप से न्यायिक कार्यवायी है। इस पर राजनीतिक बयानबाजी नहीं करना चाहिए। सभी पक्षों को मिलकर कोर्ट के निर्णयों का सम्मान करना चाहिए।

राकेश त्रिपाठी ने कहा कि कोर्ट को संवैधानिक शक्ति प्राप्त है। इस देश के लोगों का विश्वास संविधान और न्यायपालिका पर है। इसलिए न्यायपालिका के निर्णय जो भी हों इसका सबको सम्मान करना चाहिए। यह बाध्यकारी भी है और संवैधानिक उत्तर दायित्व भी है। राज्य सरकार अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन करेगी और और जो कोर्ट का आदेश होगा उसका अनुपालन करायेगी।