Thu. Feb 22nd, 2024

जी-7 देशों की चेतावनी, यूक्रेन पर हमला हुआ तो रूस को भुगतने होंगे गंभीर आर्थिक प्रतिबंध


लंदन, 14 फरवरी (हि.स.)। यूक्रेन-रूस में युद्ध की आशंका के बीच पूरी दुनिया में भय और दहशत का माहौल है। दुनिया के तमाम देशों का इस युद्ध को टालने के लिए सामूहिक और अपने स्तर पर प्रयास जारी है। इसी क्रम में जी-7 देशों के वित्त मंत्रियों ने सोमवार को कहा कि वे यूक्रेन के क्षेत्र में रूसी सैनिकों द्वारा आक्रमण की स्थिति में रूस पर सामूहिक रूप से गंभीर प्रतिबंध लगाने के लिए तैयार हैं।
जी-7 में शामिल देश कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, यूनाइटेड किंगडम (ब्रिटेन) और अमेरिका ने एक बयान में कहा कि हम सामूहिक रूप से आर्थिक और वित्तीय प्रतिबंध लगाने के लिए तैयार हैं, जिसका रूसी अर्थव्यवस्था पर व्यापक असर पड़ेगा।
जी-7 देशों की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि हम यूक्रेन की संप्रभुता, क्षेत्रीय अखंडता के साथ आर्थिक और वित्तीय स्थिरता की रक्षा के लिए एकजुट हैं। जी 7, अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थानों और विशेष रूप से अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ अपनी 2020 स्टैंड-बाय व्यवस्था के माध्यम से यूक्रेन को महत्वपूर्ण वित्तीय सहायता प्रदान कर रहा है।
मास्को ने रूसी सीमाओं के पास नाटो की सैन्य गतिविधि पर कड़ी चिंता व्यक्त करते हुए यह भी कहा है कि रूस को अपने राष्ट्रीय क्षेत्र में सैनिकों को स्थानांतरित करने का अधिकार है।