Fri. Jul 1st, 2022

जल्द ही बहुरेंगे प्राकृतिक सोनताल के दिन, पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने की कोशिश शुरू


गोपेश्वर, 27 मई (हि.स.)। यदि सब कुछ ठीक ठाक रहा तो जल्द ही चमोली जिले के पोखरी विकासखंड के ग्राम पंचायत नैल और नौली के समीप स्थित सोनताल के दिन बहुरेंगे और पर्यटक इसका लुत्फ उठा सकेंगे।

सोनताल एक प्राकृतिक ताल है, जो साल भर पानी से भरा रहता है। इस ताल को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने की कई बार योजना बनी लेकिन वह धरातल पर नहीं उतर पायी। एक बार फिर से इस ताल को विकसित करने की योजना परवान चढ़ी है। इससे क्षेत्र वासियों को उम्मीद जगी है कि इस बार इस प्राकृतिक ताल का पुनर्निमाण हो सकेगा। सरकार ने प्राकृतिक तालाबों को पुनर्जीवित करने और पर्यटन से जोड़ने की योजना बनाई है, जिसके तहत ग्राम विकास अधिकारी महावीर बैनोला ने सोन ताल पहुंचकर ताल का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि इस ताल के विकास की योजना तैयार की जा रही है और यह सोनताल पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जाएगा।

सोनताल का पर्यटन की दृष्टि से निर्माण होता है तो इस क्षेत्र के लिए विकास की नई रूपरेखा तैयार करेगा और भविष्य में नौली से सड़क धोतीदार जोड़ने की मुख्य मांग चंद्रशिला पट्टी की रहेगी। जो इस क्षेत्र को पर्यटन से जोड़ने में मील का पत्थर साबित होगी सोनताल के समीप बयालीसैण है। जो काफी सुंदर और मनमोहक है। यदि सोनताल को विकसित करने की योजना जमीन पर उतरती है तो पर्यटन की दृष्टि से इस क्षेत्र का विकास तो होगा ही, यहां के बेराजगार युवाओं को भी रोजगार के अवसर मिलेंगे।