Wed. Aug 10th, 2022

छत्तीसगढ़ में मंकीपॉक्स के दो संदिग्ध मरीज मिले


रायपुर, 27 जुलाई (हि.स.)। छत्तीसगढ़ में मंकीपॉक्स के दो संदिग्ध मरीज मिले हैं। इसमें एक भिलाई और दूसरा रायपुर का रहने वाला है। दोनों में मंकीपॉक्स के लक्षण पाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग ने दोनों के सैंपल जीनोम जांच के लिए भेजे हैं।

भिलाई के चौहान टाउन ग्रीन वैली में मिला मरीज 21 जुलाई को ओमान से रायपुर लौटा था। रायपुर के जैतू साव मठ की संस्कृत पाठशाला में अध्ययनरत बच्चे में मंकीपॉक्स के लक्षण नजर आने के बाद निगम ने मंदिर के बाहर दवाई का छिड़काव कराया है। अगले 1 हफ्ते के लिए मंदिर को सील कर दिया गया है। मंदिर में 20 और भी छात्र हैं। उन्हें आइसोलेट किया गया है।

मंकीपॉक्स अब तक दुनिया के 80 देशों में फैल चुका है। मंकीपॉक्स के छत्तीसगढ़ में दस्तक देने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। राजधानी रायपुर के पुरानी बस्ती में रहने वाले किशोर में वायरस के लक्षण नजए आए हैं। जिला चिकित्सा अधिकारी डॉ. मीरा बघेल ने बताया कि 12 साल का किशोर ओपीडी में जांच कराने आया था। जांच में मंकीपॉक्स के लक्षण देखते हुए उसे डॉक्टर भीमराव अंबेडकर अस्पताल में रखा गया है। किशोर वर्तमान में पुरानी बस्ती में रहता है। मूलतः कांकेर का निवासी है। सैंपल को जांच के लिए पुणे स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी भेजा गया है। उसके साथ रहने वाले 18 बच्चों के सैंपल भी जांच के लिए भेजे गए हैं।