Fri. May 27th, 2022

कोरोना काल में स्वास्थ्य एडवोकेसी के क्षेत्र में काम करने वाले संस्थानों की प्रासंगिकता और बढ़ गई है- रवि दाधीच


नई दिल्ली, 10 मई (हि.स.)। स्वस्थ भारत (न्यास) के सातवें स्थापना दिवस पर प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रवि दाधीच ने कहा कि अब स्वास्थ्य एडवोकेसी के क्षेत्र में काम करने वाले संस्थानों की प्रासंगिकता और बढ़ गई है।

इस क्षेत्र में काम करने वाले स्वस्थ भारत न्यास के प्रयासों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना काल में इस तरह के सार्थक प्रयास और किए जाने चाहिए। इस मौके पर देश भर के स्वास्थ्य विशेषज्ञ कोरोना काल में भारत के स्वास्थ्य पारिस्थितिकी तंत्र की भूमिका विषय पर किए विचार-मंथन किया गया।

गाजियाबाद में आयोजित दो दिवसीय स्वास्थ्य अमृत मंथन शिविर में देश की दूसरी महिला स्वास्थ्य मंत्री सुशीला नायर के नाम पर सुशीला नायर स्वस्थ भारत उत्कृष्टता सम्मान कर्नाटक हेल्थ इंस्टीट्यूट, बेलगाम कर्नाटक, कस्तूरबा हेल्थ सोसायटी, वर्धा, महाराष्ट्र और विराट हॉस्पिस, जबलपुर, मध्यप्रदेश को दिया गय़ा।

इस मौके पर भारत के 26 लोगों को स्वस्थ भारत सारथी और 12 लोगों को स्वस्थ भारत यात्री सम्मान से सम्मानित किया गया।

उद्घाटन सत्र का शुभारंभ मां सरस्वती को माल्यार्पण करके दीप प्रज्वलन के साथ मेवाड़ इंस्टिट्यूट के चेयरमैन अशोक गदिया, आध्यात्मिक गुरु पवन सिन्हा, वरिष्ठ पत्रकार अरविन्द कुमार सिंह, डॉ महेश व्यास( अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान के डीन) और स्वस्थ भारत (न्यास) के संस्थापक आशुतोष कुमार सिंह ने किया। सभी सत्रों में अपने विषय के जानकार लोग और अनुभवी व्यक्तियों ने हिस्सा लिया। चिंतन शिविर में अपने विचार रखने के लिए पवन सिन्हा, आध्यात्मिक गुरु, रवि दाधीच, (सीईओ) प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना, डॉ. जे एल मीणा, (संयुक्त निदेशक, आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना), डॉ मीना मिश्रा (चेयरपर्सन, ब्रेन बिहैवियर रिसर्च फाउंडेशन ऑफ इंडिया), डॉ. अनन्या अवस्थी, (पब्लिक हेल्थ विशेषज्ञ), अरविंद कुमार सिंह, (वरिष्ठ पत्रकार), पंकज चतुर्वेदी (वरिष्ठ पत्रकार), अमरनाथ झा, प्रो. (डॉ) महेश व्यास, (डीन, अखिल भारतीय आयुर्वेदिक संस्थान), डॉ पंकज अग्रवाल, वरिष्ठ होमियोपैथिक चिकित्सक, डॉ. आर.कांत, निदेशक सिम्पैथी, डॉ अशोक गदिया, (चेयरमैन, मेवाड़ यूनिवर्सिटी) शामिल रहे।