Fri. Jul 1st, 2022

उपराष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री संग्रहालय का किया दौरा


नई दिल्ली, 13 जून (हि.स.)। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने सोमवार को तीन मूर्ति स्थित प्रधानमंत्री संग्रहालय का दौरा किया। उन्होंने देशवासियों से स्वतंत्रता के बाद की भारत की यात्रा के बारे में जानने के लिए कम से कम एक बार इस विश्व स्तरीय संग्रहालय का दौरा करने आग्रह किया।

इस दौरान उपराष्ट्रपति के साथ उनकी पत्नी एम ऊषा नायडू भी थीं। संग्राहालय में प्रधानमंत्रियों को भेंट की गई व्यक्तिगत कलाकृतियों और उपहारों को दीर्घाओं में प्रदर्शित किया गया है। नायडू ने कहा कि संग्राहालय में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का चश्मा और निजी कलम देखकर थोड़ा भावुक हो गया।

संग्राहालय का दौरा करने के बाद उपराष्ट्रपति ने फेसबुक पर प्रधानमंत्री संग्राहालय के दौरे की अपनी तस्वीरें साझा करते हुए कहा कि यह एक शानदार स्मारक है। यह पिछले 75 वर्षों में देश के विकास में उनके योगदान की कहानियां सुनाकर आजादी के बाद से भारत के सभी प्रधानमंत्रियों को श्रद्धांजलि देता है। उन्होंने कहा कि यह संग्रहालय भारतीय लोकतंत्र की जीवंत प्रकृति का जीवंत प्रतिबिंब और उत्सव है।

इस भव्य स्मारक का उद्घाटन हाल ही में दिल्ली के तीन मूर्ति चौक पर चल रहे ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के हिस्से के रूप में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया था। नायडू ने कहा कि अत्याधुनिक संग्रहालय नवीनतम ऑडियो-विजुअल और इंटरैक्टिव तकनीकों के माध्यम से स्वतंत्रता के बाद से 14 भारतीय प्रधानमंत्रियों के योगदान को प्रदर्शित करता है।

नायडू ने कहा कि उन्हें यह देखकर खुशी हुई कि संग्रहालय में एक विस्तृत खंड हमारे संविधान और उसके निर्माताओं की कहानी सुना रहा है। भारत की इंद्रधनुषी विविधता का प्रतिनिधित्व करते हुए, सभी 22 भारतीय भाषाओं में मूल संविधान की प्रतियां संग्रहालय में प्रदर्शित की गई हैं। जैसे-जैसे हम परिसर में आगे बढ़ते हैं, तीसरी दुनिया के देश से एक उभरती हुई विश्व शक्ति तक भारत की विकास यात्रा की कहानी एक दिलचस्प और आकर्षक तरीके से सामने आती है। होलोग्राम, आभासी वास्तविकता, संवर्धित वास्तविकता, मल्टीमीडिया और इंटरैक्टिव कियोस्क के माध्यम से, अत्याधुनिक संग्रहालय आगंतुकों को इस अवधि के दौरान हमारे पिछले 75 वर्षों के इतिहास, प्रमुख घटनाओं और मील के पत्थर का एक मनोरम अनुभव प्रदान करता है।