Thu. Aug 18th, 2022

आठ साल पुराने विदेशी मदद मामले में इमरान व उनकी पार्टी दोषी करार


-पाकिस्तान के चुनाव आयोग ने खाते सीज करने को दिया नोटिस

इस्लामाबाद, 2 अगस्त (हि.स.)। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान एक बार फिर मुसीबत में पड़ते नजर आ रहे हैं। आठ साल पुराने विदेशी मदद मामले में इमरान खान और उनकी पार्टी पाकिस्तान तहरीक- ए- इंसाफ (पीटीआई) को दोषी करार दिया गया है। पाकिस्तान के चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस देकर उनके सभी खाते सीज करने की बात कही है।

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ विदेश से मदद लेने के मामले में चुनाव आयोग में सुनवाई चल रही थी। इमरान और उनकी पार्टी पर आरोप थे कि उन्होंने भारत समेत कई देशों से अरबों रुपए जुटाए और इसकी जानकारी सरकार, चुनाव आयोग या वित्त मंत्रालय को नहीं दी। मंगलवार को इस मामले में पाकिस्तान के चुनाव आयोग का फैसला आया। चुनाव आयोग ने इस मामले में इमरान खान व उनकी पार्टी को दोषी ठहराते हुए कहा कि पीटीआई ने 34 विदेशी नागरिकों और 351 कंपनियों से चंदा लिया। इमरान व उनकी पार्टी ने सिर्फ आठ खातों की जानकारी दी और जिन तेरह खातों में काला धन रखा गया, उनकी जानकारी छिपाई गयी। आयोग का कहना है कि इमरान खान ने चुनाव आयोग को झूठा हलफनामा दिया। अब भी तीन बैंक खाते ऐसे हैं, जिनकी गहन जांच की जा रही है।

दरअसल, पाकिस्तान में विदेश से किसी भी तरह का राजनीतिक चंदा लेना गैरकानूनी है। अब इमरान व उनकी पार्टी द्वारा विदेशों से चंदा लिए जाने की पुष्टि होने के बाद चुनाव आयोग ने इमरान व उनकी पार्टी को नोटिस जारी किया है। उनसे न सिर्फ व्यापक जवाब-तलब किया गया है, बल्कि उनके सभी खाते सीज करने की चेतावनी भी दी गयी है। ऐसे में माना जा रहा है कि चुनाव आयोग के संतुष्ट न होने की स्थिति में इमरान खान पर आजीवन चुनाव लड़ने पर रोक लगाई जा सकती है, वहीं उनकी पार्टी पर प्रतिबंध भी लग सकता है। इस मामले में 14 नवंबर, 2014 से सुनवाई चल रही थी।