Thu. Aug 18th, 2022

आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष पर चित्रकला प्रतियोगिता आयोजित


भागलपुर, 06 अगस्त (हि.स.)। गणपतराय सलारपुरिया सरस्वती विद्या मंदिर एवं पूरनमल सावित्री देवी बाजोरिया सरस्वती शिशु मंदिर नरगाकोठी में शनिवार को कक्षा चतुर्थ से दशम तक के भैया बहनों ने आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष के अवसर पर आने वाले 15 अगस्त को ध्यान में रखते हुए चित्रकला प्रतियोगिता में भाग लिया।

कार्यक्रम का प्रारंभ विद्यालय के उप प्रधानाचार्य अशोक मिश्र, प्रभारी प्रधानाचार्य जितेंद्र प्रसाद, मनोज तिवारी एवं अभिजीत आचार्य द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया गया। कार्यक्रम में भैया बहनों द्वारा भारत माता का चित्र, झंडा का चित्र, जय हिंद लिखकर रंग भरना, जय भारत लिखकर रंग भरना, महात्मा गांधी का चित्र बनाने जैसे चित्र बनाकर रंग भरने का कार्य किया गया। उप प्रधानाचार्य अशोक कुमार मिश्र ने कहा कि इस प्रकार की प्रतियोगिता का मुख्य उद्देश्य है भैया बहनों के अंदर पेंटिंग के प्रति रुचि विकसित करना।

पेंटिंग एक बहुत ही अच्छा शौक है जिसे हर किसी को अपने जीवन में कम से कम एक बार जरूर आजमाना चाहिए। पेंटिंग भैया बहनों के अंदर रचनात्मकता कल्पना और हाथ से आंख के समन्वय को विकसित करने में उनकी मदद करती है। प्रभारी प्रधानाचार्य जीतेंद्र प्रसाद ने कहा कि अपने मनोभावों को सौंदर्य के साथ दृश्य रूप में व्यक्त करना ही कला है। कला मनुष्य की सौंदर्य भावना को मूर्त रूप प्रदान करती है। बच्चों के अंदर प्रोत्साहन के लिए इस प्रकार की प्रतियोगिता का आयोजन समय-समय पर किया जाता है। आचार्य मनोज तिवारी ने कहा कि बच्चे ही देश का भविष्य है। ऐसी प्रतियोगिता से आत्मविश्वास बढ़ता है।

अभिजीत आचार्य ने कहा कि चित्रकला एक बहुत अच्छी कला है। चित्र बनाते समय बच्चे समय बर्बाद नहीं करते बल्कि खाली समय का उपयोग करना सीखते हैं। भैया बहनों ने उत्साह पूर्वक कार्यक्रम में भाग लिया। आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य पर विभिन्न प्रकार के चित्र बनाकर देश प्रेम की भावना को प्रस्तुत करने का प्रयास भैया बहनों ने किया है। कार्यक्रम में शिशु मंदिर से 40 भैया बहनों एवं विद्या मंदिर से 80 भैया बहनों ने भाग लिया। इस अवसर पर उप प्रधानाचार्य अशोक कुमार मिश्र, जितेंद्र प्रसाद, दीपक झा, मनोज तिवारी, अभिजीत आचार्य, अमर ज्योति, सुबोध झा, उपेंद्र प्रसाद साह, सुबोध ठाकुर, संजीव ठाकुर, नरेंद्र कुमार, गोपाल प्रसाद सिंह, अंजू रानी, सुप्रिया कुमारी, ललिता झा, कविता पाठक, रेनू कुमारी उपस्थित थे।