Tue. Sep 27th, 2022

आईटीबीपी ने पहली बार पशु परिवहन संवर्ग के 64 हेड कांस्टेबलों को पदोन्नत किया


नई दिल्ली, 18 सितंबर (हि.स.)। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) ने अपने पशु परिवहन संवर्ग (एचसी/एटी) के 64 हेड कांस्टेबलों को विभागीय पदोन्नति समिति (डीपीसी) के आधार पर सहायक उप निरीक्षक के नव निर्मित पद पर पदोन्नत किया है।

आईटीबीपी के प्रवक्ता विवेक पांडेय ने बताया कि यह आईटीबीपी पशु परिवहन (एटी) के सबसे कठिन संवर्गों में से एक के इतिहास में सबसे लंबे समय से प्रतीक्षारत और सबसे बड़े पदोन्नति में से एक था, जो 3488 किलोमीटर की पहाड़ी सीमाओं में कठिन इलाकों में दूरस्थ सीमा चौकियों पर तैनात है। एटी कैडर श्वानों के प्रशिक्षण में भी योगदान देता है, जिसमें के9एस के लिए देश में सबसे अच्छा प्रशिक्षण प्रदान करना विशेष आयाम है। आईटीबीपी के पास कठोर सीमावर्ती क्षेत्रों में रसद आपूर्ति में सहायता के लिए टट्टू, खच्चर और याक हैं, जिसका प्रबंधन इसके एटी कैडर के अधिकारियों द्वारा किया जाता है।

डीपीसी के प्रमुख बल के पशु चिकित्सक कैडर के वरिष्ठ अधिकारी डीआईजी सुधाकर नटराजन थे। डीपीसी में दो अन्य सदस्य थे जिन्होंने पदोन्नति के लिए आवश्यक दस्तावेजों की जांच की। आईटीबीपी के एटी कैडर में सहायक उप निरीक्षक के सभी 64 पद कर्मियों के लिए पदोन्नति के रास्ते खोलने और पहले से ही उच्च मनोबल को बढ़ाने के लिए नव निर्मित पद हैं।

सभी 64 हेड कांस्टेबल अब अधीनस्थ अधिकारी (एसओ) बन जाएंगे। सभी ने आईटीबीपी में 25-30 साल की सेवा की है। गृह मंत्रालय ने 21/7/22 को एएसआई/एटी के पद के लिए आरआर (भर्ती नियम) अधिसूचित किए थे और इस फास्ट ट्रैक डीपीसी ने यह सुनिश्चित किया है कि पदोन्नति बिना किसी देरी के लागू हो।

डीआईजी सुधाकर नटराजन ने कहा कि “एक अधिकारी के लिए इससे बड़ी खुशी की कोई बात नहीं है। इस डीपीसी का नेतृत्व करना सम्मान की बात है और 64 कर्मियों के चयन और पदोन्नति को सुनिश्चित करने के लिए उन्हें यह जिम्मेदारी दी गई है। इस सुखद कर्तव्य से बढ़कर मेरे लिए वास्तव में कोई खुशी नहीं है।

डीपीसी ने पे मैट्रिक्स लेवल -5 (29,000 रुपये – 92,300 रुपये) में एएसआई रैंक में उनकी पदोन्नति की सिफारिश की है। विभिन्न इकाइयों में तैनात सभी 64 हेड कांस्टेबलों को पिपिंग सेरेमनी के माध्यम से रैंक लगाए जा रहे हैं।