Thu. Aug 18th, 2022

अरुणाचल प्रदेश में चीन सीमा से लापता 19 मजदूरों में से दो और सुरक्षित बचाए गए


– अभी भी 9 श्रमिकों को नहीं खोजा जा सका, सोमवार को फिर शुरू किया गया रेस्क्यू ऑपरेशन

– अरुणाचल प्रदेश के कुरुंग कुमे जिले में चीन सीमा के पास से 20 दिन पहले लापता हुए थे 19 मजदूर

नई दिल्ली, 25 जुलाई (हि.स.)। अरुणाचल प्रदेश से सटी चीन सीमा के पास 20 दिन से लापता 2 और मजदूरों को सुरक्षित बचा लिया गया है। यह मजदूर उन 19 लोगों में शामिल हैं जो 20 दिन पहले अरुणाचल प्रदेश के कुरुंग कुमे जिले में भारत-चीन सीमा के पास लापता हुए थे। अभी भी 9 श्रमिकों को नहीं खोजा जा सका है जिसके लिए सोमवार को फिर से रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया है। जंगल में अभी भी चार मजदूर फंसे हुए हैं जो बहुत गंभीर स्थिति में हैं और वे घने जंगल और पहाड़ी इलाकों में नहीं चल सकते हैं।

अधिकारियों ने बताया कि अरुणाचल प्रदेश के कुरुंग कुमे जिले में भारत-चीन सीमा के पास सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) एक सड़क का निर्माण कर रहा है। इस कार्य में ठेकेदार ने असम के रहने वाले ज्यादातर मुस्लिम मजदूरों को लगाया था। ईद मनाने के लिए मजदूरों ने कुछ दिनों की छुट्टी मांगी लेकिन अवकाश देने से इनकार करने के बाद 19 श्रमिकों ने अपना कार्य स्थल छोड़ दिया। पांच जुलाई की रात हुरी में अपने परियोजना स्थल शिविर से भागने के बाद 19 मजदूर दो समूह में बंट गए थे।

बीआरओ अधिकारियों को बाद में पता चला कि सभी मजदूर आठ और 11 के दो समूहों में विभाजित होकर जहरीले सांपों और जंगली जानवरों से भरे घने जंगल में प्रवेश कर गए। सड़क निर्माण के लिए काम करने के लिए लगाए गए दोनों समूह अलग-अलग दिशा में जाकर लापता हो गए। जंगल में भटके हुए मजदूरों का काफी खोजबीन के बाद भी पता नहीं चला। अरुणाचल प्रदेश के कुरुंग कुमे जिले में भारत-चीन सीमा के पास 20 दिन पहले लापता हुए 19 मजदूरों को खोजने के लिए एक अभियान चलाया गया जिसके बाद अब तक 10 मजदूरों को खोजा जा सका है।

लापता हुए दो और श्रमिक रविवार को मिल गए, जबकि नौ अभी भी लापता हैं। बचाए गए दो मजदूर 27 वर्षीय खोलेबुद्दीन शेक और 19 वर्षीय शमीदुल शेक गंभीर रूप से बीमार हैं। दोनों को ईटानगर के पास नाहरलागुन के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।इन मजदूरों ने बताया है कि जंगल में अभी भी चार मजदूर फंसे हैं जो बहुत गंभीर हैं और वे घने जंगल और पहाड़ी इलाकों में नहीं चल सकते हैं। मजदूरों को खोजने के लिए चलाया जा रहा तलाशी अभियान स्थानीय गाइड सहित राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) ने रविवार देरशाम जंगल में जहरीले सांपों के खतरे को देखते हुए रोक दिया।

भारतीय वायु सेना का हेलीकॉप्टर भी खराब मौसम के कारण रविवार को ऑपरेशन में शामिल नहीं हुआ। आज सुबह से शेष 9 लापता श्रमिकों के लिए सोमवार को तलाशी अभियान फिर से शुरू किया गया है। पुलिस और स्थानीय स्वयंसेवकों के साथ एसडीआरएफ की 25 सदस्यीय टीम दामिन सर्कल में शेष लापता लोगों के लिए तलाशी अभियान चला रही है।