Mon. Aug 8th, 2022

अपडेट: योगी कैबिनेट का वाराणसी नगर निगम सीमा विस्तार का फैसला


-मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में कैबिनेट बैठक में कई अन्य प्रस्तावों पर लगी मुहर

-विश्वनाथ कॉरिडोर की तर्ज पर अयोध्या का भी होगा विकास, प्रस्ताव को हरी झण्डी

लखनऊ, 02 अगस्त (हि.स.)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार को यहां लोकभवन में कैबिनेट की बैठक आहूत की गयी। इस बैठक में मंत्रिमण्डल ने वाराणसी नगर निगम सीमा विस्तार और अयोध्या के विकास कार्य कराए जाने समेत 13 प्रस्तावों को हरी झण्डी मिली है। बैठक के बाद ऊर्जा एवं नगर विकास मंत्री एके शर्मा और पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह ने कैबिनेट के फैसलों की जानकारी दी।

एके शर्मा ने बताया कि नगर पंचायतों के गठन व विस्तारीकरण का प्रस्ताव पास किया गया है। वाराणसी नगर निगम की सीमा का विस्तार होगा। रामनगर नगरपालिका परिषद को इसमें समाहित किया गया है। साथ ही शुजाबाद नगर पंचायत को वाराणसी नगर निगम में समाहित किये जाने का निर्णय हुआ है।

उन्होंने बताया कि पूर्व में 734 नगर निकाय थे। पिछली कैबिनेट में 18 नई नगर पंचायत का गठन हुआ। 18 नगर पंचायतों का सीमा सीमा विस्तार हुआ था। साथ ही दो नगर पालिका परिषद का भी विस्तारीकरण हुआ था। मंगलवार की कैबिनेट में प्रतापगढ़ की डेरवा बाजार को नई नगर पंचायत के रूप में सृजित करने का प्रस्ताव पास किया गया है।

इसके साथ फतेहपुर की खागा, शाहजहांपुर की निगोही, सोनभद्र की सोनभद्र नगर पंचायतों के विस्तार करने के प्रस्ताव को मंजूरी मिली है। बुंलदशहर की अनूपशहर, गाज़ियाबाद की मोदीनगर, गाज़ियाबाद का मुरादनगर, गाज़ियाबाद की लोनी, शामली के कैराना, मुजफ्फरनगर की खतौली सहित नगर पालिका परिषदों के विस्तारीकरण के प्रस्ताव को भी कैबिनेट से मंजूरी मिल गई है।

मुख्यमंत्री नगर सृजन योजना को मंजूरी मिली है। इस योजना के तहत नगर विकास का मास्टर प्लान बनाया जाएगा। जनप्रतिनिधियों की सलाह ली जाएगी। रोड, ड्रेनेज, स्ट्रीट लाइट्स, कम्युनिटी हॉल निर्माण, बाजार में जनसुविधाओं के कार्य के लिए,चौराहों पर जन कार्य व सुंदरीकरण, ओपन पार्क व स्कूलों, आंगनबाड़ी केंद्र की व्यवस्था आदि के लिए इस योजना के तहत कार्य किए जाएंगे।

इस योजना के तहत जो भी धनराशि नगर निकायों को जाएगी, उसमे 90 प्रतिशत भार जनसंख्या को लेकर व 10 प्रतिशत भार क्षेत्रफल आधारित होगा। मास्टरप्लान के लिए नगर निकायों, नगर निगम में जिलाधिकारी व नगर आयुक्तों के नेतृत्व में समिति बनाई जाएगी। योजना की मासिक स्तर पर मॉनिटरिंग की जाएगी।

विश्वनाथ कॉरिडोर की तर्ज पर अयोध्या का भी होगा विकास

पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह ने बताया कि अयोध्या श्रीरामजन्मभूमि मंदिर निर्माण के सम्बंध में प्रस्ताव पास हुआ है। मुख्य मार्ग से कनेक्टिविटी मिल सके, उत्सव, त्योहार, पर्व पर सुगम आवागमन के लिए अयोध्या जिले के सहादतगंज से नयाघाट अयोध्या तक 12.94 किलोमीटर की लंबी सड़क को चौड़ीकरण, सुदृढ़ीकरण को मंजूरी मिली है।

इसकी लागत कुल संभावित 797.69 करोड़ की धनराशि स्वीकृति का निर्णय लिया गया है। यह काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के आधार पर विकसित किये जाने का प्रस्ताव है। इसके तहत दुकानदारों, कब्जेदारों के पुनर्विस्थापित किये जाने का निर्णय लिया गया है। सहादतगंज से नयाघाट मार्ग सुग्रीव किला होते हुए श्रीरामजन्मभूमि स्थल तक चार लेन मार्ग बनेगा।

इसके अतिरिक्त अयोध्या जिले में फैज़ाबाद मुख्य मार्ग से होते हुए हनुमानगढ़ी होते हुए श्रीरामजन्मभूमि स्थल तक का मार्ग चौड़ीकरण व सुदृढ़ीकरण होगा। इस योजना में सीवर व्यवस्था, पावर केबल व्यवस्था सहित अन्य यूटिलिटी व्यवस्था निहित हैं। इसका कार्य दो साल में पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है।

राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय गांधीनगर, गुजरात के रीजनल सेन्टर के स्थाई भवन का निर्माण होने तक डॉ. शकुन्तला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय में चिन्हित समेकित विशेष माध्यमिक विद्यालय के भवन को तीन साल तक निःशुल्क लिए जाने के लिए गृह विभाग और दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग के मध्य एमओयू किये जाने का प्रस्ताव भी पास हुआ है।